Go to Vaniquotes | Go to Vanipedia | Go to Vanimedia


Vanisource - the complete essence of Vedic knowledge


720114 - Lecture Hindi - Jaipur

From Vanisource

His Divine Grace A.C. Bhaktivedanta Swami Prabhupada



720114LE-JAIPUR - January 14, 1972 - 35:00 Minutes



(Translated from Hindi into English) / Go to the Hindi Transcription

(Indistinct till 00:09) No need to understand. Why, because he has understood the real thing..love of Godhead. One who has got love of Godhead, they don't have to understand how great the Lord is. They don't even know He is the Lord. Like Mother Yashoda, Mother Yashoda.. when Krishna killed Putana, Mother Yashoda reached there. Then Mother Yashoda thinks that some divine power, our demigods have protected him.

She doesn't understand that this child, this infant, not even child, is the Supreme Personality of Godhead Himself. She doesn’t have to know. (01:06 indistinct) The real thing, love, is within her. How is this ordinary? One who thinks the Lord as an ordinary human being

avajānanti māḿ mūḍhā
mānuṣīḿ tanum āśritam (BG 9.11)

Ordinary person who has no knowledge..(indistinct 1:26) who doesn't understand the Lord's supreme abode, he thinks of Krishna as an ordinary human being only. Must be one of us, has little more power. No. (Indistinct 01:44-01:48).

Frog in the well. A frog in the well, stays in the 3 feet deep waters. How will he understand what is the Pacific Ocean. He will just keep speculating. If someone has never seen the Pacific Ocean, and if someone says to him that look, i have seen a very deep ocean. Now he has never seen, he will ask how much deep? How much more than the 3 feet deep waters in which i stay? How much more, 2-4 inches more, 10 inches.

He will keep speculating, 2 inches, 4 inches, 10 inches, but he will never understand what is the Pacific Ocean. Therefore those who are foolish think of Krishna as an ordinary human being. Or else someone may think that must be a great, historic personality. But it doesn't get into their heads that He is the Supreme Personality of Godhead Himself. So to make them understand the Lord is Himself telling His glories.

bhūmir āpo 'nalo vāyuḥ
khaḿ mano buddhir eva ca
ahańkāra itīyaḿ me
bhinnā prakṛtir aṣṭadhā
(BG 7.4)

The Lord is explaining Himself in truth, this earth and water, bhūmir āpo 'nal, fire, bhūmir āpo 'nalo vāyuh, and air and ego. Ego, that we now think that I am. It is said in English, Law of Identity. I am. Everyone has their ego. False ego, actually this thing I am doesn't exist. It is a covering of bhūmir āpo 'nalo vāyuh, this body.

This body bhūmir āpo 'nalo vāyuh, tejo-vāri-mṛdāṁ yathā vinimayo.. it is said in the Bhagavat. That thing which is obtained by mixing fire, water and earth is this body. The whole world is this. Not our body, not your body, the entire world is this thing.

Only this bhūmir āpo 'nalo vāyuh, wherever you go. Mixing all this the body is made, and the house is made, and the mountain is made. Whatever material thing you are seeing, it is just an aggregation, mixing together. That is why those who are fools think that this bhūmir āpo 'nalo vāyuh, this earth, fire, water, air, mixing all this produces life at a certain condition.

There is no soul. All these big big Western philosophers, these philosophers think that the soul is born from the earth, from water, there is no separate thing as soul. And this is the idea of Buddha. This condition is aroused by mixing earth, water, fire, air, if it is broken everything will be separated. (Indistinct 06:14).

But the Lord says, no, this earth, water, fire, air and the subtle thing, ego, intelligence and mind, gross and subtle. This body is gross and inside it is a subtle body. What is that subtle body, mind, intelligence, ego. This body, when this gross body is destroyed, then the living entity stays in the subtle body. That subtle body, mind, intelligence, ego then gets another body.

Like if wind blows over a rose garden, air, it carries its fragrance and air from toilet carries odour. Similarly, whatever work I perform in this life, its fragrance, odour is carried by the mind, intelligence, ego to the next body. This is the theory of reincarnation. karmaṇā daiva-netreṇa

karmaṇā daiva-netreṇa jantur dehopapattaye
(SB 3.31.1)

Do your work. That is why we should do pious work. The Lord says regarding this:

yānti deva-vratā devān
pitṝn yānti pitṛ-vratāḥ
bhūtāni yānti bhūtejyā
yānti mad-yājino 'pi mām
(BG 9.25)

Very easy. Whatever type of work you do in this lifetime, if you worship the demigods, there are many demigods so yānti deva-vratā devān, so you will go to devaloka (planets of the demigods). pitṝn yānti pitṛ-vratāḥ those who offer oblations to forefathers, satisfy the forefathers by offering oblations to them, they go to the pitrloka (planet of the forefathers). Fruitive thinking.

And those who are materialistic, who work hard in this world, stay here. Whether it is a human body or an animal body, any body. And the Lord says mad-yājino 'pi yānti mām, and one who is My devotee, only engaged in My service, will come to Me. God is not so cheap.

Like (indistinct 09:24) say jato mat tato path. Accept any idea and do your work and you will reach God, or you will become God. This is all cheating. The Lord is saying, yānti deva-vratā devān, deva-vratā devān.. the highest planet in this material world is Brahmaloka. Bhagavad Gita also says about Brahmaloka.

sahasra-yuga-paryantam
ahar yad brahmaṇo viduḥ
(BG 8.17)

The ages, Satya, Treta, Dvapar, Kali, in these four ages, these are called yugas, divya-yuga, caturyuga, there are different names like this. So like this 1000 caturyugas make one day of Brahma, which is like our 12 hours, starting from sunrise till sunset in the evening, almost 12 hours, sometimes 13 and sometimes 14.

So normally, these 12 hours of Brahma, our caturyuga, satya, treta, dvapar, kali, all these together multiplied by 1000 make up 12 hours of Brahma. Now you can understand his age is 100 years so how long will be his days, nights, months, years. So by going to Brahmaloka you will get the same age as Lord Brahma. By going to the moon planet your age will be 10,000 years. But you will have to die. Not that, Lord Brahma also has to die and we also have to die, everyone. That is why the Lord says

ā-brahma-bhuvanāl lokāḥ
punar āvartino 'rjuna
(BG 8.16)

Even if you go the Brahmaloka, what to say of Satyaloka, Candraloka, Maharloka, Janaloka. The highest is Brahmaloka, even you go there then ā-brahma-bhuvanāl lokāḥ punar āvartino, there will be repeated birth and death and if you go to My abode then punar janma na vidyate (BG 8.16), yad gatvā na nivartante (BG 15.6). Hence it is required by the human being that he practices devotion to the Lord nicely in this life and goes back to the Lord.

They don't know here, everything is given in Bhagavad Gita. Either people don't pay attention to this or they do not know. Rest, everything is given in Bhagavad Gita. Only if it understood and implemented properly then we can make our life successful in this life only. What is successful life?

As a living entity, I am a part and parcel of the Lord so I am of the same quality as the Lord. The Lord is infinite, I am infinitesimal. Somehow I got trapped in this material nature. This is the thing. And by being delivered from here and obtaining our sac-cid-ananda body, go to the Lord and stay happily there.

yad gatvā na nivartante tad dhāma paramaḿ mama (BG 15.6). Eternal time. Nitya nityānām.. It is said in the Vedas, God is an eternal object we are also eternal objects then why we are taking so much trouble in this temporary world. This does not go into the head.

This is known as animal life,just like it does not go into the head of the animals that why we have to work so hard. Similarly that person who is not inquisitive that why we have to work so hard whole day and who does not bother about the topic of God can be understood to be an animal.

He is an animal, he is called an animal. Eating sleeping depending meeting. That is why the lord is giving a detailed analysis. It is called analysis in English. Explaining each small thing that this world made of five elements, bhumir apo 'nalo vayuh kham mano buddhir eva ca (BG 7.4).

Five elements which are gross and subtle material is mind intelligence ego. So the lord is saying bhinna prakritir ashtadha (BG 7.4). These eight types of nature are my energy; it is little separated. For example, like I am explaining to you all and there is a tape recorder which is recording all the speech. When the tape recorder will be replayed it will appear like I am only speaking, my voice, it is separate from me it, it a separate thing still from the sound it will appear like I am only speaking.

Similarly because the Lord is Absolute Truth and his nature is bhinna prakritir,and this material world is made from it, it appears like it is true. Else the lord says bhinna (Indistinct 16:04-16:08). It is true past thing is not true(?). Sat-vikara sampanna,there are six types of transformations. There is birth, staying for some time, growth, dwindling, producing by products and destruction.

Just like our body, your body, in the womb of the mother, initially the body was very small just like a gram pea. Then it grows slowly. Various holes are formed in it. The holes are nose, ears, these all are formed. There are 9 holes then that body grows.

When it finally grows completely then it comes out of the womb of the mother. Then it starts its work. So this body,this material body it is born, then slowly slowly it grows, birth growth and stays for sometime, stays for 20 to 50 years maximum and produces by-products. Children and other things are born from it, reproduction.

Then dwindling, old age will come. There will be decay and decaying one day it will be over. This is the rule of this body made of five elements, whether it is your body or the body of an elephant or the universal body it is all the same thing. By rule, birth, staying for some time, producing by-products, growth, decay.

But the living entity avināśi tu tad viddhi (BG 2.17) is destructible. The foolish people do not understand this, they think that when this body gets destroyed everything is destroyed. Now nothing, everything over. No, everything is not over. The living entity will then take a different body according to his work.

The fools do not understand this and there is no difficulty understanding it. The Lord is saying, explaining it dehino

smin yathā dehe
kaumāraḿ yauvanaḿ jarā
tathā dehāntara-prāptir
dhīras tatra na muhyati
(BG 2.13)

It does not take time to understand this. That dehino 'smin yathā dehe, in this body our body your body it was very small in the beginning, then this small body grew a little grew more, became the body of a child. Then the body has changed that small body which came out of the womb of the mother that is now destroyed. Then a bigger body than that is obtained and then a more bigger body, youth.

Similarly I know clearly that look I am lying in the lap of my mother in a small body.What have I to do? So I, my thought is it that I am an eternal object, the body changes. Similarly this body will also change. I will stay. Why it takes time to understand this? The lord is explaining this

dehino 'smin yathā dehe
kaumāraḿ yauvanaḿ jarā
tathā dehāntara-prāptir

Just like in this life so many bodies are changed, when this body is changed I am not destroyed.

na hanyate hanyamāne śarīre (BG 2.20) .By the destruction of body the soul, I am not destroyed. Nowadays this material civilization does not know all this and don't even endeavour to know. And if anyone explains to them, they make fun.

They have become so foolish. What devotional service they will do? What austerity they will do? They don't have any knowledge. That is why scriptures say that in Kaliyug:

Harer nama harer nama harer namaiva kevalam
kalau nasty eva nasty eva nasty eva gatir anyatha
(CC Adi 17.21)

Because the mind is totally disturbed in Kaliyug. mandāḥ sumanda-matayo (SB 1.1.10). These people think that their minds have become very great, we have made cars. No, the mind is totally destroyed in Kaliyug, nasta buddhye.

mandāḥ sumanda-matayo
manda-bhāgyā hy upadrutāḥ

This is the only symptom of Kaliyuga.

One is manda,don't understand anything. Foolish. And one who tries to understand, their mind is also slow. They have obtained an idea, look, consciousness is born from matter. So if consciousness is born from matter then why don't you make it in the laboratory?

Make an ant at least, consciousness from matter. Rest we will insist. Big big Darwin theory and this theory, all big big Western philosophers are all so-called scholars. Fools number one. They want to make consciousness from matter. They all will make. Conscious thing is different.

That is why the Lord says: apareyam itas tv anyāḿ prakṛtiḿ viddhi me parām (BG 7.5) This material thing bhumir apo 'nalo vayuh, it is inferior nature. Aparā, aprāyam, it has less value inferior quality.

So apareyam itas tv anyāḿ
prakṛtiḿ viddhi me parām.

There is one more nature apart from this. That is eternal nature, superior. What is that thing, jiva bhutā, this living entity

jīva-bhūtāḿ mahā-bāho
yayedaḿ dhāryate jagat
(BG 7.5)

This nature, superior nature the living entity which is enjoying in the world. It is not the enjoyer, trying to enjoy.

Everyone wants to enjoy worldly things. That is why it is said they have knowledge they have intelligence, therefore they called superior nature. So living entity is superior nature, living entity is also nature but superior nature. The five material elements are inferior nature and living entity is superior nature but nature. Not purusa.

Purusa means enjoyer and prakrti means enjoyed. So the Lord is the purusa. Govindam adi purusam, lord is the purusa. All this inferior superior nature of the lord, all this is meant to be enjoyed by the Lord. Lord will enjoy this and when the living entity thinks that I am the enjoyer that is called maya. Nothing else.

The Lord is the enjoyer and this unconscious nature and conscious nature both are to be enjoyed by the Lord. So when we forget that Lord Krishna is the enjoyer and when I try to be enjoyer that is called maya. That is the clutch of maya. What I am not, saying that artificially from outside, artificially we are trying to do that is called maya. We are not bhogta. Enjoyer, only enjoyer is God.

bhoktāraḿ yajña-tapasāḿ
sarva-loka-maheśvaram
(BG 5.29)

So the Lord (is) sarva-loka-maheśvaram. Because everything in the world is made from the energy of the Lord. What is there in the world? This bhumir apo 'nalo vayuh, they make up a thing by mixing it again and again. That's it. So it belongs to the Lord and further the lord is explaining.

Here also it is said that the living entity is also My energy. So I also belong to the Lord and the world also belongs to the Lord. So what is proper for us? The way the Lord can enjoy us we should engage in that work, our liberation. Liberation means that sva-rūpeṇa vyavasthitiḥ muktir hitvānyathā rūpaḿ (SB 2.10.6).

That we are energy and we are trying to be energetic, that is the reason of our conditioning. And if I energy, as energy become enjoyed by the Lord then that is called liberation. Nothing else. Liberation is nothing else. To be in our original position. I am energy and the Lord is energetic so I am to be enjoyed by the Lord. So in whatever way the lord wants to enjoy us, in any way He orders us in that way we should work, so that is our liberation and nothing else. Liberation is not a different thing. (Indistinct 26:21-22)

That

apareyam itas tv anyāḿ
prakṛtiḿ viddhi me parām
jīva-bhūtāḿ mahā-bāho
yayedaḿ dhāryate jagat
(BG 7.5).

This living entity is the energy but copying the energetic it is trying to enjoy the world. That is why so much fighting. What is the reason for so much fighting among people? Here you are also energy and I am also energy, to be enjoyed by the Lord. But being entrapped in the clutches of maya, I also want to be enjoyer and you also want to be enjoyer. That is why there is fighting amongst us.

Now if (Indistinct 27:10) we both understand that I can not enjoy, you also cannot enjoy then why fighting amongst us. The Lord is the enjoyer so we all engage together in the service of the Lord, then where is the point of fighting. They don't understand. That is why the Bhagavad Gita should be explained properly and after understanding if we work like this in our lives then there is peace. Then only we will get peace.

The Lord is Himself saying
bhoktāraḿ yajña-tapasāḿ
sarva-loka-maheśvaram
suhṛdaḿ sarva-bhūtānāḿ
jñātvā māḿ śāntim ṛcchati
(BG 5.29)

If we want peace then we have to understand this properly that Lord is the enjoyer and we are enjoyed. If we understand just this one thing bhoktāraḿ yajña, Lord is the enjoyer; sarva-loka-maheśvaram, all these lokas, these all planets, prithviloka, bhurloka, bhuvaraloka, janaloka, maharloka, tapaloka, there are millions of planets. So the Lord is saying this bhoktāraḿ yajña-tapasāḿ sarva-loka-maheśvaram, I am the proprietor of all the planets.

If the Lord is the proprietor of all planets then what is there left for us to enjoy. This (they) dont understand. That is why this devotional service, this Krishna consciousness, is in dire need to be preached all over the world. Man is all forgetting. They don't know. False fighting, unrest, all this is made. And all the time unhappy.

And when (they) become Krishna conscious, when (they) accept that kṛṣṇas tu bhagavān svayam (SB 1.3.28) and I am His servant, then will be happy in any situation, any situation. Any circumstances. Not that if money is there they will be happy and if money is not there they will be unhappy, not this. We meet all types of people, (I) meet big big rich men also, they are also unhappy. All this you know. Everyone is unhappy. Why unhappy? They have forgotten their position, their real identity. That is why Caitanya Mahaprabhu says that the identity of the living entity is nitya kṛṣṇa dasa. Eternal does not mean that today we do devotional service as servants and tomorrow we will become God ourselves. No, this is not the case, nitya dasa. Today also servant and after liberation also servant.

Rest that servant that is the real identity. And this servant that is not real identity. I am servant but I think I am master. We all are servants. All of you sitting here look if anyone is master, everyone is servant. Someone is servant of shop, someone is servant of government services. Someone is servant of wife, someone is servant of minister. That minister is also a servant. Whoever it is everyone is servant. Now the governor is also servant. He is servant of the nation. If he is not given votes then he will lose his job.

So everyone is servant rest everyone believes that I am the master. This is called maya, and nothing else. Any person, he is servant. But he will not accept servitorship to the Lord. He will be servant to people, servant to nation, servant to family at home and if nothing else, servant of dog, servant of horse. But not servant of God, this will happen. He is servant, he will have to remain servant.

Like we did civil disobedience, you all know that I don't accept government, so doesn't accept government, everyone is put behind bars and given good beating there. So don't accept servant, don't accept government, now accept by this rule. Like it happens, this is an ordinary example, if we happily accept the laws of government so we won't have to go forcibly to the policemen, military men. Similarly, servant, the real identity of the living entity is servant.

When they rebel against the Lord and say (I am) not servant I am master,that time maya catches him and by the trident in her hand punishes him very nicely. The name of that trident is threefold miseries. Three types of miseries, adhyatmik, adibhautik and adidaivik. So the intelligent person undertands that I do not want all this sufferings, why the three type of miseries are enforced upon us. This is the work of human birth.

Like Sanatana Goswami went to Caitanya Mahaprabhu and asked ke ami, keno more jape tapa-traya, Lord I have come to you, so this should be asked upon approaching the spiritual master, what is our real indentity and I don't want any suffering in the world, why sufferings are enforced upon us? This is to be asked. This is the work of the spiritual master, to give solution.

Like Arjuna was initially talking with Lord Krishna in terms of friendship, when he did not get solution then accepted Krishna as spiritual master śiṣyas te 'haḿ śādhi māḿ tvāḿ prapannam (BG 2.7). So the Lord explained the Gita to him. So in this way we should understand that I don't want sufferings and who sends miseries from somewhere that I have to suffer. What is the solution for this?

When this question will be there, then gradually that question will also come that what is our relationship with the Lord, that will be also solved that by engaging in the service of the Lord all our sufferings are removed. Therefore in Kaliyug there is only one solution to obtain love of Godhead, very simple solution:

Hare Krishna Hare Krishna Krishna Krishna Hare Hare Hare Rama Hare Rama Rama Rama Hare Hare

Thank you very much! Hare Krishna!

Hindi Transcription

(Indistinct 00:09) समझने का कोई जरूरत नहीं है। क्यों, क्योंकि असल चीज समझ गया.. भगवत्प्रेम। भगवत्प्रेम जिसको हो गया है, उनको यह समझना कोई आवश्यकता है ही नहीं कि भगवान कितना बड़ा है। भगवान तो, वो जानते ही नहीं कि यह भगवान है। जैसे यशोदा माई, यशोदा माई..जब कृष्ण पूतना को मार डाले तो यशोदा माई उसमें वो पहुंच गया। तो यशोदा माई समझते हैं कि कोई दैवी शक्ति हमारे जो देवता है उसको रक्षा किया। वो नहीं समझती हैं कि यह बालक जो है यह शिशु, बालक भी नहीं, यह स्वयं भगवान है। उनको कोई जानने का आवश्यकता नहीं। (indistinct 01:06) असल जो चीज है प्रेम वो उनके भीतर है।यह साधारण कैसे? जो कि भगवान को मनुष्य समझता है

अवजानन्ति मां मूढा मानुषीं तनुमाश्रितम्
(भ.गी. 9.11)

साधारण व्यक्ति जिसको ज्ञान है नहीं..परम (indistinct 1.26) जो कि भगवान का परमधाम समझता नहीं वो कृष्ण को ऐसे ही कोई साधारण व्यक्ति समझता है। हमारा ही जैसे कोई होगा, ज़्यादा कुछ पावर है। नहीं। (Indistinct 01:44-01:48) कुआं का मेंढक, कुआं का मेंढक, वो 3 फुट पानी में उसको स्थान है। वो क्या समझेगा कि प्रशांत महासागर क्या चीज है।

वो खाली सोचते ही जाएगा,कोई अगर प्रशांत महासागर कभी देखा नहीं, तो उनको कह कोई दे कि देखो जी, एक बड़ा भारी समुद्र देखा है। वो तो कभी देखा नहीं, बोले कितना भारी? यह जो 3 फुट पानी में हम रहते हैं इससे कितना ज्यादा? कितना और, और थोड़ा 2-4 इंची ज्यादा, 10 इंची। वह सोचते ही रहेगा 2 इंची 4 इंची 10 इंची,लेकिन उसको कभी समझ में नहीं आएगा कि प्रशांत महासागर क्या चीज है।

इसीलिए जो मूर्ख होते हैं वो कृष्ण को साधारण मनुष्य समझते हैं। और नहीं तो कोई समझ लिया कि कोई महान पुरुष होगा, ऐतिहासिक। बाकी वो जो स्वयं भगवान है वो उनको दिमाग में घुसता नहीं। इसलिए उन को समझाने के लिए भगवान खुद अपनी महिमा बता रहे हैं।

भूमीरापोऽनल वायुः खं मनो बुद्धिरेव च।
अहंकार इतीयं मे भिन्ना प्रकृतिरष्टधा॥
(भ.गी. 7.4)

भगवान तात्विक अपने को समझा रहे हैं, यह जो भूमि, मट्टी है और जल है, भूमीरापोऽनल, अग्नि, भूमीरापोऽनल वायुः, और वायु, हवा और अहंकार। अहंकार, जो हम लोग अभी समझते हैं कि मैं हूँ। इंग्लिश में कहते हैं लॉ ऑफ आइडेंटिटी। मैं हूँ। सब को ही अपना अहंकार है। मिथ्या अहंकार, वास्तव में यह चीज मैं हूँ नहीं है। वो भूमीरापोऽनल वायु का एक आवरण है, यह जो शरीर। यह शरीर भूमीरापोऽनल वायु, तेजो-वारि- मृद् विनिमयम्, भागवत में कहे हैं। जो अग्नि, जल और मट्टी इस को मिलाकर के एक वस्तु जो है, वो यह शरीर है। यह सब दुनिया ही यही है। हमारा शरीर नहीं आपका शरीर नहीं सारा दुनिया ही यही चीज है। यही भूमीरापोऽनल वायु, कहीं भी जाइए। यही सब चीज मिल कर के यह शरीर भी होता है और मकान भी होता है,और पहाड़ भी होता है। जो कुछ आप भौतिक चीज आप देख रहे हैं, यह बस इसी का एक समावेश, एकत्रित मिलकर के।

इसलिए जो लोग मूर्ख होते हैं वो समझते हैं यह भूमीरापोऽनल वायु यह मट्टी, अग्नि, जल, वायु, यह सब मिलकर के एक परिस्थिति में उसका जीवन बन जाता है। यह आत्मा कोई चीज है नहीं। यह बड़े-बड़े सब जो पाश्चात्य दार्शनिक है, वह दार्शनिक लोग यही विचार करते हैं यह मिट्टी से ही जल से ही आत्मा पैदा होता है आत्मा कोई अलग चीज नहीं है। और यह बुद्धा, बुद्धा का भी यही विचार है। यह मट्टी जल पानी अग्नि हवा यह सब मिलकर के यह परिस्थिति हुई है, इसको तोड़ दीजिए यह जो सब अलग-अलग हो जाएगा फिर (Indistinct 06:14)।

परंतु भगवान कहते हैं, नहीं यह जो मट्टी जल अग्नि वायु और सूक्ष्म चीज अहंकार बुद्धि मन, स्थूल और सूक्ष्म। यह शरीर है स्थूल और इसके भीतर मैं एक सूक्ष्म शरीर होता है। वो सूक्ष्म शरीर क्या चीज है, मन बुद्धि अहंकार। यह शरीर, स्थूल शरीर जब नष्ट हो जाता है, तो जो सूक्ष्म शरीर है उसमें जीवात्मा रह जाता है। वो सूक्ष्म शरीर मन बुद्धि अहंकार फिर उसको दूसरा शरीर दिलाता है।

जैसा गुलाब का खेत से यदि हवा बहती है, वायु, तो उसका सुगंध ले जाता है और पाखाना का जो हवा है वो दुर्गंध ले जाता है। इसी प्रकार इस जीवन में मैं जैसा कर्म कर रहा हूं उसका सुगंध दुर्गंध वो मन बुद्धि अहंकार वो उसको लेकर के और दूसरी शरीर उसको प्राप्त होता है। यह जन्मांतर वाद।

कर्मणा दैव नेत्रेण
कर्मणा दैव नेत्रेण जन्तुर् देहोपपत्तये
(श्री.भा. 3.31.1)

अपना कर्म करो। इसलिए कर्म अच्छा करना चाहिए। उस विषय में भगवान बताए हैं:

यान्ति देवव्रता देवान् पित्ऋन्यान्ति पितृव्रताः।
भूतानि यान्ति भूतेज्या यान्ति मद्याजिनोऽपि माम्॥
(भ.गी 9.25)

बड़ा सरल है। इस जीवन में जैसा आप कर्म कीजिएगा, यदि देवता को अर्चन कीजिएगा, अनेक देवता है तो यान्ति देवव्रता देवान्, तो देवलोक में आप जाइए। पित्ऋन्यान्ति पितृव्रताः जो श्राद्धधारी होता है, वो श्राद्ध करके पितृ लोग को संतोष करते हैं, वो पितृ लोक में जाएँगे। कर्म-कांडिए विचार। और जो भौतिक है इस दुनिया में परिश्रम करते हैं, तो यहीं रहेंगे। चाहे मनुष्य शरीर हो चाहे जानवर शरीर हो कोई भी शरीर हो। और भगवान कहते हैं मद्याजिनोऽपि यान्ति माम्, और जो हमारा भक्त है, केवल हमारा ही सेवा में नियुक्त हैं, वो हमारे पास आएँगे।

यह बात नहीं है जैसा मूर्ख लोग कहते हैं। किसी प्रकार कोई भी काम करो, आगे जाकर सब भगवान में मिल जाएंगे। यह भगवान इतना सस्ता नहीं है। जैसा (Indistinct 09:24) कहते हैं जतो मत ततो पथ। कोई भी मत आप निकाल लीजिए और अपना काम कीजिए भगवान के पास पहुंच जाइए, या तो भगवान बन जाइए। यह सब धोखा बाज है। भगवान जो कहते हैं, जो यान्ति देवव्रता देवान्, देवव्रता देवान्..जो सबसे ऊच्च लोक है यह भौतिक जगत् में ब्रह्मलोक, ब्रह्मलोक का विषय अब भगवत गीता में भी कहते हैं।

सहस्रयुगपर्यन्तमहर्यद् ब्रहम्णो विदुः
(भ.गी.8.17)

यह जो हमारा युग होता है, सत्य, त्रेता, द्वापर, कलि, यह चार युग में इसको युग कहा जाता है दिव्य युग, चतुर्युग, ऐसा अलग अलग नाम होता है। तो इस प्रकार हजार चतुर्युग में ब्रह्मा का एक दिन होता है, जो कि हमारा 12 घंटा है समझ लीजिए, सवेरे सूर्योदय तक, सूर्योदय से शुरु करके और शाम को सूर्यास्त तक, 12 घंटा समझिए, कभी 13 होता है कभी 14 होता है।

तो साधारण बारा, यह जो ब्रह्मा जी का 12 घंटा है वो हमारा जो चतुर्युग है, सत्य, त्रेता, द्वापर, कलि यह सब मिलकर के हजार गुण करने से ब्रह्माजी का 12 घंटा होता है। अब समझ लीजिए उसका आयु सौ बरस है तो कितना लंबा लंबा उनका दिन-रात महीना बरस। तो ब्रह्मलोक में जाने से जैसा ब्रम्हाजी का आयु है वह आपको मिल सकता है। चंद्रलोक में जाने से आपको 10000 वर्ष आयु मिल सकता है। परंतु मरने होगा। यह बात नहीं ब्रह्मा जी को भी मरना है और हम लोग को भी मरना है, सबको। इसलिए भगवान कहते हैं

आब्रह्मभुवनाल्लोकाः पुनरावर्तिनोऽर्जुन।
(भ.गी.8.16)

अगर ब्रह्मलोक में भी जाओ सत्यलोक चंद्रलोक महर्लोक जनलोक की तो बात ही नहीं। सबसे जो आगे है वह ब्रह्मलोक में भी जाओ तो आब्रह्मभुवनाल्लोकाः पुनरावर्तिनो वो ही आवागमन उसमें लगा रहेगा और यदि हमारा धाम में आओ तो फिर पुनर्जन्म न विद्यते (भ.गी.8.16), यद्गत्वा न निर्वतन्ते (भ.गी.15.6)।

इसलिए मनुष्य जीवन को चाहिए कि इसी जीवन में भगवत भक्ति का अच्छी तरह से पालन करके भगवान के पास चला जाए। इधर जानते ही नहीं भगवत गीता में सब कुछ बताया हुआ है। या तो आदमी इसमें ध्यान देता नहीं और या तो जानता ही नहीं। बाकि सब चीज भगवद्गीता में बताया गया है। केवल उसको अच्छी तरह से समझ कर के और अगर काम किया जाए इसी जीवन में हमारा जीवन सफल हो जाएगा। जीवन सफल क्या?

मैं जीवात्मा भगवान का अंश स्वरूप भगवान जो वस्तु है मैं भी वही वस्तु है। भगवान विभु मैं अणु, किसी तरह से मैं यह भौतिक जगत में फस गया। यही बात है। और इससे उद्धार होकर के फिर हमारा जो सच्चिदानंद शरीर है उसको प्राप्त करके फिर भगवान का पास जाकर कर अच्छी तरह से रहो

यद्गत्वा न निर्वतन्ते तद्धाम परमं मम् (भ.गी.15.6) नित्य काल, नित्य नित्यानाम् वेद में कहते हैं, भगवान नित्य वस्तु हैं, हम लोग भी नित्य वस्तु हैं तो फिर क्यों अनित्य संसार में हम लोग इधर इतना तकलीफ उठाते हैं। यह दिमाग में घुसता नहीं। इसका नाम हैं पशु जीवन, जैसा पशु का दिमाग में घुसता नहीं कि क्यों इतना परिश्रम कर रहे हैं। इसी प्रकार जो व्यक्ति यह जिज्ञासु नहीं है जो हम दिन भर क्यों परिश्रम करते हैं और भगवान का विषय में बिल्कुल ध्यान नहीं है तो वो पशु ही है समझ लीजिए। वो पशु ही, उसको पशु ही कहा जाता है। आहार निद्रा भय मैथुन। इसलिए भगवान खूब विश्लेषण करते हैं। इसका अंग्रेजी में कहते हैं ऐनालिसिस।

एक एक पुंख पुंख की (Indisticnct 14:33) करके समझा रहा है कि यह जो दुनिया है पांचभौतिक, भूमीरापोऽनल वायुः खं मनो बुद्धिरेव च। (भ.गी.7.4) पांचभौतिक वो स्थूल है और सूक्ष्म भौतिक है मन बुद्धि अहंकार। तो भगवान कहते हैं इतीयं मे भिन्ना प्रकृतिरष्टधा (भ.गी.7.4) यह जो आठ प्रकार की प्रकृति है यह हमारा ही चीज है। थोड़ा अलग है।

जैसा उदाहरण स्वरूप, जैसा आप लोग को हम सुना रहे हैं और एक टेप रिकॉर्ड में यह सब जो वचन है वह रिकॉर्ड हो जाता है। वह टेप रिकॉर्ड को जब रिप्ले किया जाएगा, मालूम होगा मैं ही बोल रहा, my voice हमसे वह अलग है वह चीज अलग है यद्यपि शब्द से मालूम होगा कि मैं ही बोल रहा हूं। इसी प्रकार यह जो भौतिक जगत है यह क्योंकि भगवान परम सत्य वस्तु है और उनकी प्रकृति से भिन्ना प्रकृति द्वारा यह प्रस्तुत है, इसको बनाया गया है। मालूम होता है यह सच है, बाकि भगवान कहते हैं भिन्ना (Indistinct 16:04-16:08)

सत् है, अतीत वस्तु सत् नहीं है। षट्विकार सम्पन्ना छः प्रकार का विकार होता है। जन्म होता है, स्थिति होता है, वर्धन होता है, अपक्षय होता है, परिणाम होता है और नष्ट होता है। जैसा हमारा शरीर, आपका शरीर, माँ का गर्भ में, बहुत छोटे से, जैसा समझ लीजिए एक चना का जैसे पहले शरीर होता है। फिर आहिस्ते आहिस्ते बड़ती है। उसमें सब छेद होता है, छेद माने नाक कान ये सब बन जाता है। नौ छेद होते हैं। फिर वो शरीर बढ़ता है। बढ़ते बढ़ते बढ़ते जब वो पूरा हो जाता है तब माँ का गर्भ में से निकल आता है।

फिर, अपना काम शुरु हो जाएगा। तो यह जो शरीर है भौतिक शरीर, यह जन्म हुआ, फिर आहिस्ते आहिस्ते बढ़ता है, जन्म, वृद्धि और स्थिति, कुछ दिन रहेगा 20-50 साल ज्यादा से ज्यादा स्थिति, और परिणाम, इससे बच्चा वच्चा बहुत कुछ पैदा होता है, परिणाम।फिर अपक्षय, बुढ़ापा आ जाएँगे। क्षय होगा, क्षय होते होते एक दिन खत्म। यह शरीर का, पांचभौतिक शरीर का यह नियम है।चाहे अपना शरीर लीजिए चाहे हाथी का शरीर लीजिए चाहे जगत का शरीर लीजिए यह सब चीज एक ही नियम से जन्म स्तिथि परिणाम वृद्धि अपक्षय। परंतु जीवात्मा जो है

अविनाशी तु तद्विद्धि (भ.गी. 2.17) वो अविनाशी है। यह मूर्ख लोग नहीं समझता है, वो समझता है यह शरीर नाश हो गया सब नाश हो गया। अब कुछ नहीं। सब खत्म अब। नहीं, सब खत्म नहीं होता। जीवात्मा ना वह फिर अलग शरीर लेता है अपना कर्म का अनुसार। यह मूर्ख लोग नहीं समझते और समझना कोई मुश्किल भी नहीं है भगवान कहते हैं, इसको समझा रहे हैं कि

देहिनोऽसमिन्यथा देहे कौमारं यौवनं जरा।
तथा देहान्तरप्राप्तिर्धीरस्तत्र न मुह्यते॥
(भ.गी. 2.14)

यह समझने में कोई देर नहीं लगता है। कि देहिनोऽसमिन्यथा देहे, यह शरीर में, यह जो हमारा शरीर है आपका शरीर है, पहले बहुत छोटा था, फिर यह छोटा शरीर थोड़ा और कुछ बढ़ गया, कुछ और बढ़ गया, बालक का शरीर हो गया। फिर शरीर तो पलट गया वो छोटा शरीर माँ के गर्भ से जो निकलता है वह तो नष्ट हो गया। फिर उससे थोड़ा बड़ा शरीर मिल गया, और उससे और थोड़ा बड़ा शरीर यौवन, उसी प्रकार मुझको तो ठीक ठीक मालूम है कि देखो कि मैं माँ का गोद में ऐसे छोटी शरीर में लेटा रहता हूं। हमको क्या? तो मैं जो, हम हमारा ख्याल है मैं नित्य वस्तु है, शरीर पलट गया। इसी प्रकार यह शरीर पलट जाएगा। मैं रह जाऊंगा। इसमें समझने में क्या देर है? भगवान यही समझा रहे हैं:

देहिनोऽसमिन्यथा देहे
कौमारं यौवनं जरा।
तथा देहान्तरप्राप्तिर्

जैसे इसी जीवन में अनेक देह परिवर्तन होता है यह शरीर परिवर्तन हो जाने से मैं नष्ट नहीं होता। न हन्यते हन्यमाने शरीरे।(भ.गी. 2.20) शरीर नष्ट हो जाने से मैं जो है आत्मा वस्तु आत्मवस्तु मैं नष्ट नहीं होता। यह आज कल यह भौतिक सभ्यता में वो यह सब जानते भी नहीं और जाने के लिए कुछ प्रयत्न भी नहीं करता है। और कोई अगर उसको समझाया जाए तो हंसी उड़ाते हैं। ऐसा मूर्ख हो गया है। वो क्या भगवद् भजन करेगा? क्या तपस्या करेंगे? यह उसको ज्ञान तो है ही नहीं। इसलिए कलियुग में शास्त्र में यही बताया है:

हरेर् नाम हरेर् नाम हरेर् नामेव केवलम्
कलौ नास्त्येव नास्त्येव नास्त्येव गतिर् अन्यथा।
(चै.च. आदि 17.21)

जो दिमाग तो कलयुग में बहुत ही खराब है। मंदा: सुमंद-मतयो.. ये लोग समझते हैं हमारा दिमाग खूब बढ़ गया,हम मोटर गाड़ी बना ली। नहीं, कलियुग में दिमाग सब खराब है। नष्ट बुद्धये। मंदा: सुमंद-मतयो मंद-भाग्या ह्युपद्रुता: (श्री.भा 1.1.10) कलियुग का यही लक्षण है। एक तो मंद है, कुछ समझता नहीं। मूर्ख है । और जो कुछ समझने के लिए प्रयत्न करता है तो उसका मद भी मंद है। वो यह मत निकाल लिया, देखो जी यह मट्टी से ही चेतन पैदा होता है। अरे मट्टी से ही चेतन पैदा होता है तो लेबोरेटरी में क्यों नहीं बनाते हो। एक चींटी तो बनाओ मिट्टी से चेतन। बाकी हम लोग जिद्द करेंगे। बड़े-बड़े सब डार्विन थ्योरी और यह थ्योरी बड़े-बड़े सब पाश्चात्य सब तथाकथित सब विद्वान हैं। एक नंबर का मूर्ख है। ये मिट्टी से चेतन बनाने को चाहते हैं। यह सब बनाएंगे, चेतन वस्तु अलग है।

इसलिए भगवान कहते हैं: अपरेयमितस्त्वन्यां प्रकृतिं विद्धि मे पराम् (भ.गी.7.5) यह जो भौतिक चीज है भूमीरापोऽनल वायु, यह निकृष्ट प्रकृति है। अपरा अपरायम्, इसका वैल्यू कम है, निकृष्ट, इंफीरियर क्वालिटी। तो अपरेयमितस्त्वन्यां प्रकृतिं विद्धि मे परा। इसके अलावा और एक प्रकृति है। वह परा प्रकृति है। उत्कृष्ट वह कौन चीज है जीव भूता यह जो जीवात्मा।

जीवभूतां महाबाहो ययेदं धार्यते जगत्
(भ.गी. 7.5)।

यह जो प्रकृति पराप्रकृति जीव है ये ही दुनिया को भोग कर रहे हैं, भोगता तो नहीं भोग के लिए प्रयत्न करता है।

सब कोई चाहते हैं दुनिया का चीज हम खूब भोग करें। इसलिए कहते हैं उनकी ज्ञान है उनकी बुद्धि है इसलिए उनको पराप्रकृति कहा गया है। तो जीव पराप्रकृति। जीव भी प्रकृति बाकी पराप्रकृति। यह पांच भौतिक जो चीज है यह अपराप्रकृति और जीवात्मा जो है पराप्रकृति, बाकी प्रकृति। पुरुष नहीं, पुरुष का अर्थ होता है भोगता और प्रकृति का अर्थ होता है भोग्य। तो भगवान पुरुष है। गोविंदम् आदि पुरुषम्, भगवान पुरुष। यह भगवान का यह परा प्रकृति अपरा प्रकृति जो कुछ है यह सब भगवान का भोग्य है। भगवान इसको भोग करेंगे। और जो जीव समझता है कि मैं भोगता हूँ इसका नाम ही है माया। और यह कुछ नहीं। भगवान पुरुष है और यह जड़ा प्रकृति और चित्त प्रकृति दोनों ही भगवान के भोग्य वस्तु है। तो हम लोग यह जब भूल जाते हैं कि भगवान कृष्ण भोगता हैं और मैं जब भोगता बनने के लिए प्रयत्न करता हूँ, उसका नाम है माया। वो ही माया का चक्र। जो चीज़ मैं है नहीं उसको कह रहे कृत्रिम बाहर से artificially we are trying to do that is called maya. We are not bhogta. भोगता, एकमात्र भोगता भगवान।

भोक्तारं यज्ञतपसां सर्वलोकमहेश्वरम् (भ.गी.5.29) तो भगवान तो सर्वलोकमहेश्वरम्। क्योंकि भगवान की प्रकृति से जो कुछ है दुनिया में सब कुछ बनी हुई है। दुनिया में है ही क्या चीज। ये ही भूमीरापोऽनल वायु इसको मिला मिलाकर के एक चीज खड़ा कर देते हैं। बस। तो वो तो भगवान का है। और आगे जाके यही भगवान बता रह हैं , यहाँ भी बताया है कि जीव है यह भी हमारी प्रकृति है। तो मैं भगवान का और दुनिया भी भगवान का है। तो हमारा उचित क्या है। जो भगवान जिस तरह से हमको भोग कर सके उस काम में लग जाना चाहिए, हमारी मुक्ति। मुक्ति का अर्थ यही होता है कि स्वरूपेण व्यवस्थितिः मुक्तिर् हित्वान्यथा रूपम् (श्री.भा. 2.10.6)। यह जो हम प्रकृति है और पुरुष होने का लिए जो हम प्रयास करते हैं यह ही हमारा बंधन का कारण माया और यदि मैं प्रकृति प्रकृति रूप से भगवान का भोग्य हो जाते हैं तो उसका नाम है मुक्ति। और कुछ नहीं। मुक्ति और कुछ नहीं। स्वरूप में अवस्थित रहना। जब मैं प्रकृति हूँ और भगवान पुरुष है तो मैं भगवान के भोग्य। इसलिए भगवान जिस तरह से हमको भोग करने को चाहे जिस तरह हे हमको हुकुम करे उस प्रकार हम काम करें तो बस हमारा वो मुक्ति है और कुछ नहीं। मुक्ति कोई अलग चीज नहीं है। (indistinct 26:21-22)

कि अपरेयमितस्त्वन्यां प्रकृतिं विधि मे पराम्। जीवभूतां महाबाहो ययेदं धार्यते जगत्॥ (भ.गी.7.5)। यह जो जीव है यह प्रकृति बाकि पुरुष का नकल करके ये दुनिया में भोग करने को चाहते हैं। इसलिए यह इतना झगड़ा। आपसी आपसी झगड़ा का कारण क्या। यहाँ आप भी प्रकृति, मैं भी प्रकृति, भगवान की भोग्य वस्तु। परंतु माया जाल में फस करके मैं भी पुरुष होने को चाहता हूँ, आप भी पुरुष होने को चाहते हो। इसलिए आपसे हमसे झगड़ा।

अब यदि (indistinct 27:10) हम लोग दोनों ही समझ जाएँ कि भई हम तो भोग नहीं कर सकते आप भी भोग नहीं कर सकते तो फिर आपसी आपसी झगड़ा क्या। जो भोगता है वो तो भगवान है इसलिए आप और हम सब मिलकर के भगवान के सेवा में लग जाएँ, तो फिर झगड़ा का कोई बात ही नहीं। ये सब समझते नहीं। इसलिए भगवद्गीता अच्छी तरह से समझना चाहिए और समझ कर के यदि हम लोग अपना जीवन में इसी प्रकार काम करेंगे तो शांति है। तभी शांति मिलेगी। भगवान खुद कहते हैं

भोक्तारं यज्ञतपसां सर्वलोकमहेश्वरम्।
सुहृदं सर्वभूतानां ज्ञात्वा मां शान्तिमृच्छति॥
(भ.गी. 5.29)

अगर शांति चाहते तो इसको अच्छी तरह से समझना चाहिए कि भोगता है भगवान और हम लोग भोग्य। यह ही एक चीज अगर हम लोग समझ जाएं भोक्तारं यज्ञ, भगवान भोगता हैं; सर्वलोकमहेश्वरम्, ये सब जितने लोग हैं; यह जो यह लोक है, पृथ्वी लोक है, भूर्लोक है, भुवरलोक है, जनलोक है, महर्लोक है, तपलोक है, अनंत कोटि लोक हैं। तो भगवान कहते हैं यह भोक्तारं यज्ञतपसां सर्वलोकमहेश्वरम् सब लोक का मालिक मैं हूँ।

यदि भगवान सब लोक का मालिक हुआ और फिर हमारा भोग्य वस्तु क्या रह गया। तो यह समझता नहीं। इसलिए भगवद्भक्ति यह जो कृष्ण भावनामृत, यह दुनिया में प्रचार करने की बहुत आवश्यकता है। आदमी सब भूल से चल रहा है। वो जानते ही नहीं। झूठ मूठ लड़ाई झगड़ा, अशांति, ये सब बनाए हुए हैं। और सब समय दुखी हैं।

और जब krishna conscious हो जाएं, जब कृष्ण को मान लें कि कृष्णस्तु भगवान स्वयम् (श्री.भा.1.3.28) और मैं उनके सेवक, तो किसी भी अवस्था में वो सुखी रहे, किसी भी अवस्था। कोई भी अवस्था। यह बात नहीं है जो धन रहने से ही सुखी रहेंगे और धन नहीं रहने से दुखी रहेंगे, यह बात नहीं है। हम लोग सब किस्म का आदमी से मिलता जुलता है बड़े बड़े धनी से भी मिलता हूँ, तो वो भी दुखी है। सब यह आप लोग सब जानते हैं। सभी दुखी हैं। क्यों दुखी हैं? वो अपनी जो परिस्थिति है,जो वास्तविक उनका जो स्वरूप है वो भूल गया। इसलिए चैतन्य महाप्रभु कहते हैं कि जीव का जो स्वरूप है नित्य कृष्ण दास। नित्यता यह नहीं है आज दास बनकर के भगभद्भक्ति करें, कल खुद ही भगवान हो जाएंगे। नहीं, यह बात नहीं है, नित्य दास। आज भी दास और मुक्ति होने का पश्चात भी दास। बाकि वो जो दास है वो स्वरूप है। और यह जो दास है यह विरूप है। दास तो मैं है परंतु मैं समझता हूँ कि मैं मालिक हूँ। सब कोई दास हैं हम। जितना आप लोग इधर बैठे हुए हैं देखिए कोई मालिक है, सब दास हैं। कोई दुकानदारी का दास है, कोई गवर्नमेंट सर्विस का दास है। कोई औरत का दास है, कोई मिनिस्टर का दास है। वह मिनिस्टर भी दास है। जो कोई हो सब कोई दास है। अभी गवर्नर जो वो भी दास है। वह नेशन का दास है। उसको अगर वोट नहीं दिया जाए तो उसका नौकरी छूट जाए। तो सभी दास हैं बाकी सब मानते हैं कि मैं मालिक हूँ। इसका नाम है माया, और कुछ नहीं। कोई भी व्यक्ति हो वह दास है। बाकी वह भगवत्दास स्वीकार नहीं करेगा। वह लोग का दास हो जाएगा नेशन का दास हो जाएगा, घर में परिवार का दास हो जाएगा और कुछ नहीं तो कुत्ता का दास हो जाएगा, घोड़ा का दास हो जाएगा। बाकी भगवान का दास नहीं होगा बस यही होगा।

दास वह है दास उनको रहना ही पड़ेगा। जैसा हम लोग सिविल डिस्ओबीडिएंस किया था आप लोग को मालूम है कि मैं गवर्नमेंट को नहीं मानता तो गवर्नमेंट को मानता नहीं सब पकड़ पकड़ के जेल में भर्ती कर दिया और उधर खूब पिटाई किया है। तो दास नहीं मानता गवर्मेंट को नहीं मानता अब यह रूल से मानो। जैसा होता है यह साधारण एग्जांपल तो और एक खुशी से हम लोग गवर्मेंट का कानून मानकर चले तो जबरदस्ती पुलिस का आदमी, मिलिट्री का आदमी हमको जाना नहीं पड़ेगा। इसी प्रकार दास जीव का स्वरुप है दास।

जब वह भगवान से विरोध करके वह कहते हैं नहीं दास नहीं है मैं मालिक उस समय माया उसको पकड़ कर के अच्छी तरह से उनका जो माया का हाथ में जो त्रिशूल है खूब अच्छी तरह से उनको सजा देती है। वह त्रिशूल का नाम है त्रिताप यंत्रणा तीन प्रकार के ताप, आध्यात्मिक, आदिभौतिक, आदिदैविक। इसलिए जो बुद्धिमान व्यक्ति है वह समझता है जो मैं तो सब दुख नहीं चाहता हूँ क्यों यह तीन प्रकार के दुख हमारा ऊपर सब समय जबरदस्त बैठ जाता है। यह मनुष्य जीवन का काम है।

जैसे सनातन गोस्वामी जाकर के चैतन्य महाप्रभु से पूछा था के अमी, कैनो मोरे जापे ताप-त्रय, महाराज आपके पास आए हैं तो गुरु के पास जाकर के यही पूछना है वास्तविक हमारा स्वरूप क्या है और मैं तो दुनिया का कुछ दुख नहीं चाहता हूँ क्यों हमारा ऊपर दुख जबरदस्ती बैठ जाता है? यही पूछना है। यह गुरु करण का अर्थ होता है जिसका समाधान करें। जैसे अर्जुन पहले भगवान कृष्ण से मित्रता हिसाब से बात कर रहा था,जब उसका समाधान नहीं हुआ तो कृष्ण को गुरु माना शिष्यस्तेऽहं शाधि मां त्वां प्रपन्नम् (भ.गी. 2.7) जो आपका मैं शिष्य बन जाता हूँ आप हमको उपदेश दीजिए, जिस तरह से यह जो हमारा चंचल मन हो गया लड़ाई क्षेत्र में आकर के हम लड़ाई करने को नहीं चाहता हूँ तो उसका आप (indistinct 34:11)। इसलिए भगवान उसको गीता समझाया।

इसी प्रकार हम लोग को समझना चाहिए कि मैं तो दुख नहीं चाहता हूँ और किधर से कौन दुख भेज देता है जो कि जबरदस्ती हमको भोगने पड़ता है। इसका समाधान क्या है ? यह जब प्रश्न होगा फिर आहिस्ते आहिस्ते वो भगवान का प्रश्न भी आएगा भगवान से हमारा क्या संपर्क है, वह भी समाधान होगा कि भगवान का सेवा में लग जाने से हमारा सब दुख मिट जाएगा। इसलिए कलयुग में वह भगवद्प्राप्ति के लिए एक ही उपाय है बड़ा सरल उपाय:

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥ थैंक्यू वैरी मच! हरे कृष्ण!